Adhyashakti Shastrototer Strot

Adhyashakti Shastrototer Strot

Product Code: Novel
Availability: 100
Rs .100
Ex Tax: Rs .100

Language- Hindi 

Author-   Mahesh Chandra Singh Adhikari 

Pages- 72

Publisher- Anuradha Prakashan 

Binding- Paperback

ISBN-10 - 9385083910    

ISBN-13 - 978-9385083914   

 

 

Product description

ADHYASHAKTI SHASTROTOTER STROT BOOK INCLUDES BLESINGS OF MAA SARASWATI 108 ASHTOTARR SHLOKS BLESSINGS OF MAA SARASWATI SHLOK ADHYASHAKTI SHASTROTOTER STROT BOOKS अनेक पुराणों के अ/ययन मात्र से अचानक मां सरस्वती की कृपा से 'आद्याशक्ति' का सहस्त्रनाम बनाने की इच्छा हुई, सहस्त्र नाम बना पर श्लोक संस्था तीन सौ के पास पहुंच गया, फिर समय की गति का अनुमान हुआ तो श्लोक संख्या कम करने की प्रेरणा मिली और श्लोक संख्या को कम करते हुए अष्टोत्तर (108) श्लोकों में परिवर्तित किया । अष्टोत्तर श्लोकों में सिमटने पर समय लगा । इन नामों और श्लोकों की एक विशेषता यह है कि एक नाम दुबारा नहीं आया है और नामवाली क्रमबद्ध करने पर समय लगा । उक्त कार्य में भगवान की कृपा और पुराणों के अ/ययन के अलावा किसी का सहारा नहीं लिया गया है क्योंकि आज का समाज कलियुगी समाज बन चुका है, जो हर क्षेत्र में दिशाहीन हो चुका है । 

Product description

ADHYASHAKTI SHASTROTOTER STROT BOOK INCLUDES BLESINGS OF MAA SARASWATI 108 ASHTOTARR SHLOKS BLESSINGS OF MAA SARASWATI SHLOK ADHYASHAKTI SHASTROTOTER STROT BOOKS अनेक पुराणों के अ/ययन मात्र से अचानक मां सरस्वती की कृपा से 'आद्याशक्ति' का सहस्त्रनाम बनाने की इच्छा हुई, सहस्त्र नाम बना पर श्लोक संस्था तीन सौ के पास पहुंच गया, फिर समय की गति का अनुमान हुआ तो श्लोक संख्या कम करने की प्रेरणा मिली और श्लोक संख्या को कम करते हुए अष्टोत्तर (108) श्लोकों में परिवर्तित किया । अष्टोत्तर श्लोकों में सिमटने पर समय लगा । इन नामों और श्लोकों की एक विशेषता यह है कि एक नाम दुबारा नहीं आया है और नामवाली क्रमबद्ध करने पर समय लगा । उक्त कार्य में भगवान की कृपा और पुराणों के अ/ययन के अलावा किसी का सहारा नहीं लिया गया है क्योंकि आज का समाज कलियुगी समाज बन चुका है, जो हर क्षेत्र में दिशाहीन हो चुका है ।

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad           Good