Aparichit Rahe

Aparichit Rahe

Product Code: Novel
Availability: 100
Rs .75
Ex Tax: Rs .75

Language- Hindi 

Author-   Himanshu Adhikari

Pages- 64

Publisher- Anuradha Prakashan 

Binding- Paperback

ISBN-10 - 9385083961 

ISBN-13 - 978-9385083969 

 

Product description

'अपरिचित राहें' पुस्तक में 35 कविताओं का समावेश किया गया है । इन कविताओं में आपको एक बचकाना उम्र संबधित कविताएँ मिलेंगी जिन अंजान राहों में जाने से ना ही कोई रोकता है और ना ही कोई दिशा दिखाता है । और ऐसा होना भी मुसासिफ है, इस उम्र में जो होता है उसका अनुभव हमारी सहन शक्ति को भी दृढ़ बनाता है जो ज्यादातर दुख देता है पर मीठा--- किसी शायर ने कहा है - शुक्र करो हम दुख सहते हैं, लिखते नहीं वरना काग़जों पर लफ्जों के जनाजे उठते--- और एक छोटी सी बात जरूर कहना चाहूँगा--- मैंने किसी को कहते हुए सुना था---जो करना है खुशी से करो, खुश होने के लिए कुछ मत करो---  

 

Write a review

Note: HTML is not translated!
Bad           Good